Scanner

Scanner एक इनपुट डिवाइस है जो photographs और टेक्स्ट के पेज जैसे दस्तावेजों को स्कैन करता है। जब किसी दस्तावेज़ को स्कैन किया जाता है, तो उसे डिजिटल प्रारूप में बदल दिया जाता है। यह दस्तावेज़ का एक electronic version बनाता है जिसे computer पर देखा और संपादित किया जा सकता है।

Scanners

अधिकांश scanners flatbed devices होते हैं, जिसका अर्थ है कि उनके पास एक सपाट स्कैनिंग सतह है। यह तस्वीरों, पत्रिकाओं और विभिन्न दस्तावेजों के लिए आदर्श है। Most flatbed स्कैनर में एक कवर होता है जो ऊपर उठता है ताकि पुस्तकों और अन्य भारी वस्तुओं को भी स्कैन किया जा सके।

एक अन्य प्रकार का स्कैनर sheet-fed scanner है, जो केवल कागजी दस्तावेजों को स्वीकार कर सकता है। जबकि शीट-फेड स्कैनर पुस्तकों को स्कैन नहीं कर सकते हैं, कुछ मॉडलों में एक स्वचालित दस्तावेज़ फीडर, या ADF शामिल होता है, जो क्रम में कई पृष्ठों को स्कैन करने की अनुमति देता है।

Scanners कंप्यूटर सॉफ्टवेयर प्रोग्राम के साथ मिलकर काम करते हैं, जो स्कैनर से डेटा आयात करते हैं। Most scanners में बुनियादी स्कैनिंग सॉफ्टवेयर शामिल होता है जो उपयोगकर्ता को स्कैन को configure करने, आरंभ करने और आयात करने की अनुमति देता है। स्कैनिंग plug-in भी स्थापित किए जा सकते हैं,

जो विभिन्न सॉफ़्टवेयर प्रोग्रामों को स्कैन की गई छवियों को सीधे आयात करने की अनुमति देते हैं। उदाहरण के लिए, यदि Adobe Photoshop के लिए एक स्कैनर प्लग-इन स्थापित है, तो उपयोगकर्ता कनेक्ट किए गए स्कैनर से सीधे Photoshop में नई छवियां बना सकता है।

जबकि Photoshop स्कैन की गई छवियों को संपादित कर सकता है, एक्रोबैट और ओमनीपेज जैसे कुछ प्रोग्राम वास्तव में स्कैन किए गए टेक्स्ट को पहचान सकते हैं। इस तकनीक को optical character recognition या ओसीआर कहा जाता है। स्कैनिंग सॉफ्टवेयर जिसमें ओसीआर शामिल है,

स्कैन किए गए टेक्स्ट दस्तावेज़ को एक digital text file में बदल सकता है जिसे word processor द्वारा खोला और संपादित किया जा सकता है। कुछ OCR प्रोग्राम पेज और टेक्स्ट फॉर्मेटिंग को भी कैप्चर करते हैं, जिससे भौतिक दस्तावेजों की इलेक्ट्रॉनिक प्रतियां बनाना संभव हो जाता है।