Projector

Projector एक output device है जो एक बड़ी सतह पर एक छवि को projects करता है, जैसे कि एक white screen या दीवार। लोगों के बड़े समूह को वीडियो या चित्र दिखाते समय इसका उपयोग monitor or television के विकल्प के रूप में किया जा सकता है।

Projector

Projectors कई आकार और आकार में आते हैं, हालांकि वे आमतौर पर लगभग एक फुट लंबे और चौड़े और कुछ इंच लंबे होते हैं। उन्हें छत पर लगाया जा सकता है या freestanding और पोर्टेबल हो सकता है। Ceilingmounted projectors आमतौर पर बड़े होते हैं, विशेष रूप से वे जो लंबी दूरी (such as 30 feet or more) प्रोजेक्ट करते हैं। ये प्रोजेक्टर आमतौर पर कक्षाओं, conference rooms, सभागारों और पूजा स्थलों में पाए जाते हैं।

Portable projectors का उपयोग कहीं भी किया जा सकता है जहां एक चमकदार सतह होती है (such as a white or light colored wall)। अधिकांश प्रोजेक्टर में कई इनपुट स्रोत होते हैं, जैसे नए उपकरणों के लिए HDMI ports और पुराने उपकरणों के लिए वीजीए पोर्ट। कुछ projectors Wi-Fi and Bluetooth और ब्लूटूथ को भी सपोर्ट करते हैं।

उच्च गुणवत्ता वाले projectors की कीमत हजारों डॉलर होती थी और अकेले बल्बों की कीमत सौ डॉलर से अधिक हो सकती थी। प्रौद्योगिकी में आधुनिक प्रगति – विशेष रूप से LCD and LED light sources – ने एक उज्ज्वल उच्च गुणवत्ता वाले प्रोजेक्टर की लागत को केवल कुछ सौ dollars तक कम कर दिया है।
Front vs Rear Projection

Most projectors का उपयोग आगे या पीछे के प्रक्षेपण के लिए किया जा सकता है। अंतर स्क्रीन का है, जो सामने के प्रक्षेपण के लिए अपारदर्शी सफेद है और पीछे के प्रक्षेपण के लिए semi-transparent grey है। सामने का प्रक्षेपण छवि को दर्शकों की स्थिति से screen के सामने तक भेजता है। यह अब तक का सबसे आम तरीका है क्योंकि इसमें screen के पीछे खाली जगह की आवश्यकता नहीं होती है।

रियर projection छवि को स्क्रीन के पीछे से दर्शकों की ओर projects करता है। यह विधि परिवेशी प्रकाश से कम प्रभावित होती है और अक्सर बेहतर कंट्रास्ट प्रदान करती है। Rear projection commonly पर बाहरी सेटिंग्स और व्यावसायिक क्षेत्रों में used किया जाता है जहां स्थान कोई समस्या नहीं है।