GPIO

GPIO “General-purpose input/output के लिए जाना जाता है। GPIO एक एकीकृत सर्किट पर पाया जाने वाला एक प्रकार का पिन है जिसका कोई विशिष्ट कार्य नहीं होता है। जबकि अधिकांश पिनों का एक समर्पित उद्देश्य होता है, जैसे कि एक निश्चित घटक को सिग्नल भेजना, GPIO पिन का कार्य अनुकूलन योग्य होता है और इसे software द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है।

सभी चिप्स में GPIO पिन नहीं होते हैं, लेकिन वे commonly पर multifunction chips पर पाए जाते हैं, जैसे कि पावर मैनेजर और audio/video कार्ड में उपयोग किए जाने वाले।

GPIO

उनका उपयोग system-on-chip (SOC) सर्किट द्वारा भी किया जाता है, जिसमें एक ही चिप पर एक processor, मेमोरी और बाहरी interfaces शामिल होते हैं। GPIO पिन इन चिप्स को विभिन्न उद्देश्यों के लिए configured करने और कई प्रकार के घटकों के साथ काम करने की अनुमति देता है।

एक लोकप्रिय उपकरण जो GPIO पिन का उपयोग करता है, वह है रास्पबेरी पाई, एक single-board कंप्यूटर जिसे शौकियों और शैक्षिक उद्देश्यों के लिए designed किया गया है। इसमें बोर्ड के किनारे पर GPIO पिन की एक पंक्ति शामिल है जो Raspberry Pi और अन्य घटकों के बीच interface प्रदान करती है।

ये पिन स्विच के रूप में कार्य करते हैं जो उच्च पर सेट होने पर 3.3 वोल्ट का उत्पादन करते हैं और कम पर सेट होने पर कोई वोल्टेज नहीं। आप किसी device को विशिष्ट GPIO पिन से कनेक्ट कर सकते हैं और इसे सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम से नियंत्रित कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, आप एक रास्पबेरी पाई पर एक GPIO के लिए एक एलईडी और एक ग्राउंड पिन तार कर सकते हैं। यदि कोई सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम GPIO पिन को चालू करने के लिए कहता है, तो LED जल उठेगी।

अधिकांश कंप्यूटर उपयोगकर्ता GPIO पिन का सामना नहीं करेंगे और उन्हें कॉन्फ़िगर करने के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। हालाँकि, यदि आप एक हॉबीस्ट या कंप्यूटर प्रोग्रामर हैं, तो यह सीखना helpful हो सकता है कि किन चिप्स में GPIO पिन होते हैं और उनका उपयोग कैसे करना है।

Leave a comment