CMOS (Complementary Metal Oxide emiconductor) परिभाषा

CMOS “Complementary Metal Oxide Semiconductor” के लिए जाना जाता है। यह integrated circuit बनाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली तकनीक है। CMOS सर्किट कई प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक घटकों में पाए जाते हैं, जिनमें microprocessor, battery और digital camera इमेज सेंसर शामिल हैं।

CMOS में “MOS” एक सीएमओएस घटक में transistor को संदर्भित करता है, जिसे MOSFETs (metal oxide semiconductor field-effect transistors) कहा जाता है। नाम का “Metal” हिस्सा थोड़ा भ्रामक है, क्योंकि आधुनिक MOSFETs अक्सर प्रवाहकीय सामग्री के रूप में एल्यूमीनियम के बजाय पॉलीसिलिकॉन का उपयोग करते हैं। प्रत्येक MOSFET में दो टर्मिनल (“source” और “drain”) और एक gate शामिल होता है, जो transistor के शरीर से अछूता रहता है। जब गेट और बॉडी के बीच पर्याप्त वोल्टेज लगाया जाता है, तो source और drain टर्मिनलों के बीच electron प्रवाहित हो सकते हैं।

CMOS का “complimentary” भाग दो अलग-अलग प्रकार के semiconductors को संदर्भित करता है जिनमें प्रत्येक transistor होता है – N-Type और P-type। N-type के semiconductors में छिद्रों की तुलना में इलेक्ट्रॉनों की अधिक सांद्रता होती है, या वे स्थान जहाँ एक इलेक्ट्रॉन मौजूद हो सकता है। P-प्रकार के अर्धचालकों में इलेक्ट्रॉनों की तुलना में छिद्रों की सांद्रता अधिक होती है। ये दो अर्धचालक एक साथ काम करते हैं और सर्किट के डिजाइन के आधार पर लॉजिक गेट बना सकते हैं।
सीएमओएस लाभ

CMOS ट्रांजिस्टर विद्युत शक्ति के कुशल उपयोग के लिए जाने जाते हैं। जब वे एक राज्य से दूसरे राज्य में बदल रहे हों, तब तक उन्हें विद्युत प्रवाह की आवश्यकता नहीं होती है। इसके अतिरिक्त, मानार्थ अर्धचालक आउटपुट वोल्टेज को सीमित करने के लिए एक साथ काम करते हैं। परिणाम एक कम-शक्ति वाला डिज़ाइन है जो न्यूनतम गर्मी देता है। इस कारण से, CMOS transistor ने अन्य पिछले डिज़ाइनों (जैसे कैमरा सेंसर में सीसीडी) को बदल दिया है और अधिकांश आधुनिक प्रोसेसर में उपयोग किया जाता है।

नोट: कंप्यूटर में cmos memory एक प्रकार की गैर-वाष्पशील रैम (NVRAM) है जो BIOS सेटिंग्स और दिनांक/समय की जानकारी संग्रहीत करती है।

Leave a comment