Boot Disk

boot disk, या startup disk, एक storage device है जिससे computer “boot” या startup कर सकता है। default boot disk आमतौर पर कंप्यूटर की internal hard driver या SSD होती है। इस disk में boot priority के साथ-साथ operating system के लिए आवश्यक फाइलें होती हैं, जो startup process के अंत में लोड की जाती हैं।

जबकि प्राथमिक internal storage device से system को boot करना सबसे आम है, अधिकांश कंप्यूटर आपको अन्य डिस्क से बूट करने की अनुमति देते हैं। इसमें external hard drive, CD, DVD और USB flash drive शामिल हैं। primary disk पर diagnostic और disk utility को चलाने के लिए secondary boot disk से प्रारंभ करना उपयोगी हो सकता है। यह आवश्यक हो सकता है यदि कंप्यूटर primary boot disk से प्रारंभ नहीं हो सकता है।

कुछ operating system को बूट फाइलों और ऑपरेटिंग सिस्टम फाइलों के लिए अलग partition की आवश्यकता होती है। इन विभाजनों को “boot partition” और “system partition” कहा जाता है।

एक storage device के लिए boot disk के रूप में कार्य करने के लिए चार आवश्यकताएं हैं:

  • मीडिया को हार्डवेयर द्वारा समर्थित होना चाहिए (उदाहरण के लिए, एक DVD स्टार्टअप डिस्क के लिए सीडी/डीवीडी ड्राइव की आवश्यकता होती है।
  • इसे सही सिस्टम के लिए स्वरूपित किया जाना चाहिए (उदाहरण के लिए, windows के लिए NTFS या Mac के लिए APFS)।
  • इसमें स्टार्टअप के लिए आवश्यक boot files होनी चाहिए।

इसमें एक operating system होना चाहिए जो कंप्यूटर द्वारा समर्थित हो।

कई disk utility आपको एक custom boot disk बनाने की अनुमति देती हैं, जिसे आप डीवीडी या थंब ड्राइव में सहेज सकते हैं। इन बूट डिस्क में एक प्राथमिक “utility” ऑपरेटिंग सिस्टम शामिल है जो प्राथमिक ड्राइव पर utility और repair चला सकता है। इस प्रकार की बूट डिस्क का लक्ष्य ड्राइव की विफलता के मामले में कंप्यूटर को शुरू करना और प्राथमिक ड्राइव की मरम्मत करना है ताकि इसे फिर से स्टार्टअप डिस्क के रूप में उपयोग किया जा सके।

नोट: कुछ ऑपरेटिंग सिस्टम network booting का समर्थन करते हैं। यह स्टार्टअप फाइलों और ऑपरेटिंग सिस्टम को नेटवर्क कनेक्शन पर लोड करता है। डेटा लैन या इंटरनेट से डाउनलोड किया जा सकता है।

Leave a comment